Breaking News

Motivational story in hindi about success, Inspirational story about success, prerak prasang, story about fish | समस्याएं कैसी भी हों, अलग-अलग तरीकों से लगातार प्रयास करने से सफलता जरूर मिल जाती है


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • व्यापारी समुद्र से मछली के पकड़कर लाते और शहर में बेचते थे, लेकिन इसमें काफी समय लग जाता था और मछलियों की ताजगी खत्म हो जाती थी, ग्राहक नहीं खरीदते थे ऐसी मछलियां

जापान की एक लोक कथा है। वहां के लोग खाने में मछलियों के व्यंजन बहुत पसंद करते हैं। मछली के व्यापारी समुद्र से मछलियां पकड़कर लाते और शहर के बाजार में बेचते थे। ग्राहक ताजी मछलियां खरीदना पसंद करते थे। लेकिन, समुद्र से शहर तक आने में काफी समय लग जाता था। इस वजह से मछलियों की ताजगी खत्म हो जाती थी। इस वजह से व्यापारियों को काफी नुकसान होता था।

कुछ व्यापारियों ने मछलियों के लिए एक बड़ा फ्रिजर खरीदा। फ्रिजर में रखकर मछलियां बेचने शुरू किया, लेकिन जापानी लोग मछलियों को सूंघकर समझ जाते थे कि मछलियां ताजी हैं या नहीं। फ्रिजर वाला आइडिया भी ज्यादा दिन काम नहीं कर सका।

इसके बाद व्यापारियों ने एक बड़ा टैंक बनवाया और उसमें जिंदा मछलियां पकड़कर शहर तक ले आते और फिर उन्हें बेचते थे। लेकिन टैंक में पकड़ी गई मछलियां कुछ देर बार ही स्थिर हो जाती थीं। समुद्र में रहने वाली मछलियां टैंक के पानी में ज्यादा इधर-उधर विचरण नहीं करती थी। ऐसी मछलियों के स्वाद में भी अंतर आ जाता था। जापानी लोग चखकर ऐसी मछलियों की परख कर लेते थे। व्यापारियों के ये आइडिया भी ज्यादा दिन काम नहीं आया। ग्राहक सिर्फ ताजी मछलियां खरीदना पसंद करते थे।

तब व्यापारियों ने पानी के टैंक में मछलियों के साथ ही एक छोटी शार्क मछली में छोड़ दी। इससे छोटी मछलियां शार्क से बचने के लिए लगातार मेहनत करती और उनके शरीर में ऊर्जा बनी रहती थी। शार्क कुछ मछलियां तो खा लेती थी, लेकिन बाकी मछलियां शहर तक पहुंचने के बाद भी एकदम ताजी रहती थीं। व्यापारियों को ऐसी मछलियों के दाम भी ज्यादा मिलने लगे थे।

सीख – व्यापारियों ने लगातार अलग-अलग तरीकों से मेहनत की तो उन्हें ताजी मछलियां बेचने में सफलता मिल गई। इसी तरह अगर कोई एक समस्या किसी एक तरीके से हल नहीं हो रही है तो हमें दूसरे तरीके से परेशानी को हल करने की कोशिश करनी चाहिए। दूसरा तरीका असफल हो जाए तो तीसरा तरीका अपनाना चाहिए। इसी तरह हम बड़ी-बड़ी समस्याओं को भी हल कर सकते हैं। असफल होने पर रुकना नहीं चाहिए। एक बार फिर से तरीका बदलकर प्रयास करना चाहिए।



Source link