Breaking News

mangawal and ekadashi yog on 23 february, ekadashi puja on 23 february, ekadashi puja tips, worship method for bal gopal | मंगलवार और एकादशी का योग, विष्णु-लक्ष्मी के साथ ही बालकृष्ण और हनुमानजी की पूजा भी जरूर करें


  • Hindi News
  • Jeevan mantra
  • Dharm
  • Mangawal And Ekadashi Yog On 23 February, Ekadashi Puja On 23 February, Ekadashi Puja Tips, Worship Method For Bal Gopal

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • माघ मास के शुक्ल पक्ष की अजा एकादशी आज, इस तिथि पर कान्हाजी को लगाएं माखन-मिश्री का भोग

हिन्दी पंचांग के अनुसार माघ मास के शुक्लपक्ष की एकादशी मंगलवार, 23 फरवरी है। इसे जया, अजा और भीष्म एकादशी के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि जो लोग इस एकादशी पर व्रत करते हैं, विष्णु पूजा करते हैं, उन्हें जाने-अनजाने में किए पाप कर्मों से छुटकारा मिलता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार जानिए इस एकादशी से जुड़ी खास बातें…

स्कंद पुराण में बताया गया है एकादशियों का महत्व

हिन्दी पंचांग के एक माह में दो पक्ष होते हैं। एक पक्ष में एक एकादशी आती है। इस तरह 12 माह में कुल 24 एकादशियां आती हैं। जब अधिकमास आता है तो 26 एकादशियां आती हैं। सभी एकादशियों का महत्व स्कंद पुराण के एकादशी महात्म्य अध्याय में बताया गया है। एकादशियों पर व्रत किया जाता है और विष्णु पूजा के बाद ब्रह्माणों को दान दिया जाता है।

एकादशी पर महालक्ष्मी-विष्णुजी की पूजा जरूर करें

एकादशी पर भगवान विष्णु का लक्ष्मीजी के साथ पूजन करें। अभिषेक करें। दक्षिणावर्ती शंख में केसर मिश्रित दूध भरें और अभिषेक करें। पूजन में फल-फूल, गंगाजल, धूप दीप और प्रसाद आदि अर्पित करें। दिन में एक समय फलाहार करें। रात में भगवान विष्णु के सामने दीपक जलाएं। भगवान के मंत्रों का जाप करें। अगले दिन यानी द्वादशी पर किसी ब्राह्मण को दान-दक्षिणा दें। इसके बाद भोजन ग्रहण करें। इस व्रत में किसी भी तरह के गर्म वस्त्रों का दान करना बड़ा बहुत शुभ माना जाता है।

एकादशी पर ये शुभ काम भी करें

गणेशजी को दूर्वा की 21 गांठ चढ़ाएं और श्री गणेशाय नम: मंत्र का जाप 108 बार करें। गणेशजी की पूजा गजानंद के रूप में की जाती है। इसीलिए किसी हाथी को गन्ना खिलाएं। गणेशजी के साथ ही रिद्धि-सिद्धि की भी पूजा करें।

हनुमानजी के सामने धूप-दीप जलाएं और हनुमान चालीसा का पाठ करें। श्रीराम की पूजा करें। ऊँ रामदूताय नम: मंत्र का जाप कम से कम 108 बार करें।

भगवान विष्णु को केले और हलवे का भोग लगाएं। विष्णुजी को पीले वस्त्र चढ़ाएं। बालकृष्ण को माखन-मिश्री का भोग तुलसी के साथ लगाएं।



Source link